तो 720 दिनों के लिए मंगल ग्रह पर जाएंगे लाखों लोग जिसमे शामिल होंगे इतने भारतीय 

अगले वर्ष २०१८ में पृथ्वी से मंगल ग्रह के 720 दिनों के सफर के लिए अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (नैशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन) ने इनसाइट मिशन (InSight Mission) के तहत लाल ग्रह यानि मंगल ग्रह पर जाने वाले लोगो के आवेदन की लिस्ट जारी कर दी है. मंगल ग्रह का सफर मई २०१८ को शुरु होगा. जिसमे भारतियों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया है. नासा का यह मिशन 26 नवंबर 2018 को मंगल ग्रह पर लैंड होगा.

 

mars-nasa kuchhnaya
sth.india.com

 इंटरनेट के जरिए मिलेगा बोर्डिंग पास-:

classroom-nasa mars mission
Source: NASA

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, जिन लोगों ने मंगल पर जाने के लिए बुकिंग कराई है, उन्हें नासा की तरफ से ऑनलाइन ‘बोर्डिंग पास’ दिया जाएगा.

ग्लोबल लिस्ट में भारत तीसरे नंबर पर-:

NASA TWEET kuchhnaya
Source: NASA

मंगल मिशन पर जाने के लिए कुल 24 लाख 29 हजार 807 आवेदन मिले. अमेरिका और चीन के बाद सबसे ज्यादा आवेदन भारत से मिले हैं. ग्लोबल लिस्ट में देखा जाए तो नाम रजिस्टर कराने की लिस्ट में भारत तीसरे नंबर पर है.

जो नाम दिए गए हैं, उन्हें एक सिलिकॉन चिप पर इलेक्ट्रॉन बीम के सहारे उकेरा जाएगा। चिप पर लिखे गए अक्षर बाल के हजारवें हिस्से से भी पतले होंगे। इसके बाद यह चिप मंगल पर भेजी जाएगी।

ग्लोबल लिस्ट में 6 लाख 76 हजार 773 लोगों के आवेदन के साथ अमेरिका पहले स्थान पर है, वहीं 2 लाख 62 हजार 752 लोगों साथ चाईना दूसरे नंबर पर है. और भारत एक लाख नामों के साथ तीसरे नंबर पर है.

मीडिया रिपोर्ट की माने तो अंतरिक्ष विशेषज्ञों का कहना है कि सूची में अमेरिका का आगे रहना कोई चौकाने वाली बात नहीं क्योंकि यह नासा का मिशन है. हालांकि, उन्होंने यह भी माना कि चीन के बाद भारत का तीसरे नंबर पर रहना काफी महत्वपूर्ण है. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, भारत के तीसरे नंबर पर रहने की दो बड़ी वजहें हैं. पहला भारत के मंगलयान मिशन के बाद से यहां के नागरिकों में उत्साह और रुचि पैदा होना है, तो दूसरी वजह भारत और अमेरिका के बीच अंतरिक्ष क्षेत्र में बढ़ता सहयोग है.

यह 720 दिन का मिशन है, जो मंगल पर आनेवाले भूकंपों का अध्ययन कर के वहां के आंतरिक हालात का पता लगाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *