एक ऐसा जंगल जहां के आदिवासी खाते है इंसानों का मांस

अक्सर लोगों को जंगल में ट्रेकिंग करना बहुत पंसद होता लेकिन आज हम आपको ऐसे जंगल के बारे में बताने जा रहें है जहां पर जाना खतरे से खाली नहीं है. इस खौफनाक जंगल में रहने वाले आदिवासी इंसानों को मार कर खाते है. अगर इनसे आप बच भी गये तो इस जंगल के जहरीले जीवों, खूंखार जानवरों और उबलती नदियों से नहीं बच सकोगे.

कहा जाता है इस जंगल के दो पहलू हैं. पहले पहलू के हिसाब से यह जंगल अपनी खूबसूरती के लिए बहुत मशहूर है. यहां एक बड़ी संख्या में सैलानी आते हैं और आनंद लेते हैं. वहीं इस जंगल का दूसरा पहलू यह है कि यह जंगल जानलेवा है, जिस कारण ढ़ेरों सैलानी यहां से डरावनी यादें अपने साथ लेकर जाते हैं. तो आईये जानने की कोशिश करते हैं कि ऐसा क्यों है…

दुनिया का सबसे बड़ा वर्षावन

Amazon forest kuchhnaya
renegadehealth.com

‘अमेजन जंगल’ कितना बड़ा है, इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि यह दक्षिणी अमेरिका से लेकर ब्राज़ील तक फैला हुआ है. अमेरिका का ये जंगल कुल 9 देशों कोलंबिया, वेनेजुएला, ईक्वाडोर, बोलिविया, गुयाना, सूरीनाम और फ्रेंच गुयाना में ये में फैला है. माना जाता है कि अमेज़न अगर कोई देश होता, तो वह दुनिया का 9वां सबसे बड़ा देश होता.

इसे दुनिया का सबसे बड़ा वर्षावन कहा जाता है. यहां इतने बड़े और लम्बे पेड़ हैं कि यहां पर धूप की रौशनी तक सही से नहीं पहुंचती. यह ‘पृथ्वी के फेफड़े’ के नाम से भी मशहूर है. यहां दुनिया के 20% प्रतिशत ऑक्सीजन बनने का दावा किया जाता है. यहां पेड़-पौधे, कीड़े, जानवर आदि की ढ़ेरों प्रजातियां पाई जाती हैं.

जानलेवा होते हैं यहां के कीड़ें

आंकड़ों की मानें तो अमेज़न के जंगलों में हजारों कीड़ों और जंतुओं की प्रजाति रहती हैं. सबसे हैरान करने वाली बात तो यह है कि इसके सिर्फ कुछ ही प्रतिशत कीड़ों के बारे में हम जानते हैं. अमेज़न में पाए जाने वाले कीड़े कोई आम कीड़े नहीं होते हैं, जिन्हें आप घर में झाडू से मार के भगा देते हैं. यह छोटे-छोटे से कीड़े बेहद ही खतरनाक होते हैं.

मच्छर होते है खतरनाक 

अमेज़न में रहना आसान नहीं माना जाता. कहा जाता है कि यहां आपकी हल्की सी चूक खतरनाक हो सकती है. यह जंगल भले ही देखने में बहुत शांत और सुहाना लगे, लेकिन यहां पाये जाने वाले मच्छर बहुत घातक होते हैं. कई बार तो इनके काटने से लोग इतने बीमार पड़ जाते हैं कि उन्हें बचाना मुश्किल हो जाता है. मच्छरों की तादाद अमेज़न में इतनी है कि उन्हें भगाने वाली दवाई भी कई बार काम नहीं करती. दरअसल, मच्छर यहां पर अपने साथ मलेरिया और डेंगू जैसी बीमारियां लेकर आते हैं. यहां पर वातावरण में नमी रहती है, इसलिए मच्छर से होने वाली बीमारियों के खतरे बढ़ जाते हैं. गर्मी की वजह से लोग यहां कम से कम कपड़े पहनकर रखते हैं. यह मच्छरों को काटने के आमंत्रण जैसा होता है.

बुलेट चीटी होती बेहद जहरीली 

चींटियां तो आपने बहुत देखी होंगी, लेकिन यहां की बुलेट एन्ट जैसे खतरनाक चींटी नहीं देखी होगी. यह देखने में छोटी होती है, लेकिन इनका डंक जहर से कम खतरनाक नहीं होता. इसका काटना किसी गोली लगने जैसा होता है. शायद इसलिए ही इसको बुलेट एन्ट कहा जाता है. यहां लोग भूल से भी इनके पास जाने की कोशिश नहीं करते.

मकड़ियों का डंक कर सकता है अंधा 

यहां 3000 से ज्यादा मकड़ी की प्रजातियां मिलती हैं, जिनमें से ज्यादातर तो जहरीली होती हैं. टारान्टुला मकड़ी यहां की सबसे बेरहम मकड़ी मानी जाती है. कहते हैं कि जब यह मकड़ी काटती है, तो काफी मात्रा में ज़हर छोड़ती है. अगर शिकार हुए व्यक्ति की किस्मत अच्छी होती है तो वह बच जाता है, वरना फिर भगवान ही मालिक होता है. इतना ही नहीं यह अपने शरीर से अपने बालों को तीर की तरह भी छोड़ सकती है. यह अगर आंख में चले जाए तो कांच की तरह उसे फाेड़ देता है.

मेढ़क होते है खतरनाक 

अमेज़न में चीटियों और मकड़ियों के अलावा लगभग 100 प्रकार के ज़हरीले मेंढक भी पाए जाते हैं. चटक रंग की खाल वाले यह छोटे से मेंढक देखने में बहुत प्यारे लगते हैं, लेकिन उनके अंदर दस लोगों को मरने लायक जहर होता है. यह मेंढक अमेज़न में आमतौर पर दिखाई दे जाते हैं. इनके बारे में जानने वाले हमेशा इनसे दूरी बनाकर ही रखते हैं.

एनाकोंडा के चंगुल फंसे तो मौत निश्चित है

हॉलीवुड की फिल्म एनाकोंडा तो अधिकतर लोगों ने देखी ही होगी. उसमें दिखाया गया है कि कैसे अमेज़न के जंगलों में बड़े-बड़े सांप घुमा करते हैं. फिल्म में तो एनाकोंडा को 100 फुट से भी बड़ा दिखाया है, लेकिन असल में यह इतने लम्बे नहीं होते. हां, लेकिन यह बात जरुर सही है कि इनकी चंगुल में अगर आप एक बार फंस गए तो बचना मुश्किल हो जाता है. यह एनाकोंडा अपने शिकार को अपनी गिरफ्त में लेकर धीरे-धीरे मार डालते हैं.

यहां आपको कई नदियां भी देखने को मिल जायेंगी. इनको जंगल की ही तरह खतरनाक माना जाता है. इसके पीछे वाजिब कारण भी है. असल में इन नदियों में तरह-तरह के जहरीले सांप, मछलियों और मगरमच्छों का आवास होता है. इसके अलावा यहां ‘खूनी जैगुआर’ भी रहता है. यह एक प्रकार से तेंदुए की प्रजाति का जानवर होता है, लेकिन अगर यह भड़क जाए तो अमेज़न का शेर बन जाता है. वह बात और है कि यह जल्दी इंसानों पर हमला नहीं करता.

मौसम का मार भी है जानलेवा

अमेज़न जंगल में जाने से पहले मौसम का भी ख्याल रखना जरुरी हो जाता है. बारिश का मौसम यहां के लिए बहुत ही घातक साबित हो सकता है. यहां पर कब बारिश हो जाए किसी को पता नहीं होता. बारिश थोड़ी हो तो सही रहता है, लेकिन यहां उम्मीद से ज्यादा बारिश अक्सर मुसीबत का सबब बन जाती है. ज्यादा बारिश से यहां पर कभी भी बाढ़ आने का खतरा बना रहता है. सभी रास्ते बंद हो जाते हैं. इसका मतलब है कि अगर भारी बारिश के बीच कोई फंस गया, तो शायद ही उसे समय पर मदद मिल सके.

यहां के आदिवासी खा जाते है इंसानों 

Amazon forest kuchhnaya
assets.survivalinternational.org

50 लाख वर्गमील में फैले जंगल में बसे आदिवासी इंसानों को मार कर खाते है. इस खतरनाक जंगल में कई आदिवासी समुदाय रहते है जोकि बहुत ही खतरनाक है. यहां पर अकेले या किसी के साथ जाना खतरे से खाली नहीं है. यहां पर इस बात की खोज करने पहुंचे खोजकर्ता भी इनका शिकार हो गए. यहां के आदिवासी इंसानों को मारने के बाद उनकी खोपड़ी अपने घर के बाहर टांग देते है.

उबलता है यहां नदियों का पानी 

Amazon forest kuchhnaya
lovethesepics.com

इसके अलावा यहां पर लोगों को सिर्फ आदिवासीयों से ही नहीं बल्कि यहां पर बहने वाली खूबसूरत पेरू नदीं भी कई लोगों की जान ले चुकी है. इस नदीं का पानी 93 डिग्री सेंटीग्रेड होता है. इसका पानी इतना गर्म होने के कारण इस नदी में कोई मछली भी नहीं पाई जाती है.

यही कारण है कि अमेज़न को दुनिया के सबसे खूबसूरत जंगल होने के साथ-साथ सबसे खतरनाक जंगल के रुप में कुख्यात है. पर इसमें दो राय नहीं कि अगर यहां पूरी तैयारी और जरुरी सावधानी के साथ जाया जाये तो यहां से खूबसूरत जगह रोमांच के लिए कोई और नहीं हो सकती.

श्रोत-roar.media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *