जाने माने महलों के निर्माण के पीछे थे ये राज

देश भर में मौजूद स्मारक और किले पिछली कई सदियों से देश में जड़े जमाए हुए हैं और आप भी अक्सर इन जगहों पर घूमने जाते रहते होते होंगे लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इन किलों और स्मारकों के बनने के पीछे की कहानी आखिर क्या है? पेश है ऐसे ही 11 किले और स्मारक जिनका न केवल निर्माण दिलचस्प है बल्कि इनके बनने के पीछे की कहानी भी उतनी ही रोचक है.

जल महल, जयपुर

जलमहल राजस्थान (भारत) की राजधानी जयपुर के मानसागर झील के मध्‍य स्थित प्रसिद्ध ऐतिहासिक महल है. अरावली पहाडिय़ों पर मौजूद है. जिसे ‘आई बॉल’ भी कहा जाता है. इसे ‘रोमांटिक महल’ के नाम से भी जाना जाता था.  महल लगभग 300 साल पुराना है. पानी में आधे डूबे इस महल का निर्माण सवाई जयसिंह ने अश्वमेध यज्ञ के बाद अपनी रानियों और पंडित के साथ स्‍नान के लिए करवाया था. इस पैलेस के बारे में माना जाता है कि इसे शाही परिवार के लिए होने वाली पार्टियों और पिकनिक के लिए भी इस्तेमाल किया जाता रहा.

हवामहल, जयपुर

महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने 1798 में हवामहल का निर्माण कराया था. हवामहल के डिज़ाइनर लाल चंद उस्ताद ने इसे भगवान कृष्णा के मुकुट की तरह डिज़ाइन करने का फ़ैसला किया था. इसे बनाने के पीछे मंशा यही थी कि बिना किसी परेशानी के शाही महिलाएं रोज़मर्रा की ज़िंदगी का लुत्फ़ उठा सकें क्योंकि उस दौर में पर्दा सिस्टम अपने चरम पर था और रानियों से लेकर आम महिलाओं के पर्दे में रहने की परंपरा थी.

कुंभलगढ़ किला, कुंभलगढ़

kumbhalgarh kuchhnaya
राजस्थान के उदयपुर से ७० किमी दूर १,०८७ मीटर ऊँचा और ३० किमी व्यास में फैला यह दुर्ग मेवाड़ के यशश्वी महाराणा कुम्भा ने दुर्ग का निर्माण सम्राट अशोक के दूसरे पुत्र संप्रति के बनाये दुर्ग के अवशेषों पर १४५८ में पूरा करवाया था. कुंभलगढ़ में मेवाड़ के राजा और शूरवीर महाराणा प्रताप का इसी किले जन्म हुआ था. ये किला मेवाड़ और मारवाड़ को अलग करने में भूमिका निभाता है और युद्ध की स्थिति में शाही परिवार के इमरजेंसी जगह के रूप में शुमार है इसके अलावा जब चित्तौड़ पर हमला हुआ था, उस दौरान भी राजकुमार उदाई की सुरक्षा के लिए उन्हें इसी किले में लाया गया था. इस किले को ‘अजेयगढ’ कहा जाता था क्योंकि इस किले पर विजय प्राप्त करना कठिन कार्य था. इसके चारों ओर एक बडी दीवार बनी हुई है जो चीन की दीवार के बाद दूसरी सबसे बडी दीवार है.

छैल पैलेस, हिमाचल प्रदेश

hptdc-the-chail-palace kuchhnaya

छैल पैलेस का निर्माण पटियाला के महाराजा ने किया था. दरअसल पटियाला के महाराजा भूपिंदर सिंह को उस दौर में कुछ कारणों से शिमला में आने से रोक दिया गया था. शिमला उस ज़माने में भारत की गर्मियों की राजधानी हुआ करती थी. हालांकि महाराजा ने इस बात से खफ़ा या परेशान होने के बजाए अपने लिए एक पैलैस बनवाने का फ़ैसला कर लिया ताकि गर्मियों में सुकून से वक्त गुज़ारा जा सके और इस तरह छैल पैलेस का निर्माण शुरू हुआ था. वर्तमान में इस पैलेस को एक होटल में तब्दील किया जा चुका है.

बीबी का मकबरा, औरंगाबाद

AurangabadTomb kuchhnaya

आज़म शाह ने 1678 में बीबी का मकबरा बनवाया था. आज़म शाह, औरंगज़ेब का बेटा था और उसने ये मकबरा अपनी मां दिलरास बानू बेगम की याद में बनवाया था. बीबी का मकबरा काफी हद तक ताजमहल की तरह भी दिखाई देता है. खास बात ये है कि इस मकबरे की शुरूआत से पहले इसे ताजमहल जैसा ही भव्य और शानदार बनाने का प्रण लिया गया था लेकिन बजट की समस्या और नक्काशी के घटते स्तर के चलते ये ताजमहल को टक्कर देने के बजाए ये मकबरा महज ताज की परछाई बन कर रह गया.

बिदार किला, कर्नाटक

kuchhnaya
en.wikipedia.org

सुल्तान अलाउद्दीन बाहमन, बाहमनायिड सल्तन्त से ताल्लुकात रखते थे. उन्होंने ही इस किले को बनवाया था. 1427 में वे अपनी राजधानी को गुलबर्ग से हटाकर बिदार में शिफ़्ट कराना चाहते थे. इस एक किले के अंदर ही करीब 30 स्मारकों की मौजूदगी है.





रामबाग पैलेस, जयपुर

kuchhnaya
hi.wikipedia.org

रामबाग पैलेस आज के दौर में भले ही एक लक्ज़री होटल में तब्दील हो चुका हो लेकिन उस ज़माने में ये महाराजा ऑफ़ जयपुर का घर हुआ करता था. माना जाता है कि इस पैलेस की पहली बिल्डिंग का निर्माण 1835 में किया गया था. इस बिल्डिंग का निर्माण राम सिंह द्वितीय की एक महिला मित्र के लिए किया गया था. ये महिला राम सिंह के बच्चों को दूध पिलाती थी और उनके बच्चों की देखभाल करती थी.

चौमहल पैलेस, हैदराबाद

Chowmahalla_Palace kuchhnaya
en.wikipedia.org/wiki/

चौमहल पैलेस, हैदराबाद के निज़ामों का पैलेस हुआ करता था. प्राचीन भारत में ये पैलेस असफ़ जाही dynasty  की सीट हुआ करती थी. इसके अलावा जब हैदराबाद के निज़ाम यहां के शासक थे, उस दौरान ये जगह उन लोगों के रहने की आधिकारिक जगह भी थी, उस दौर में इस पैलेस का इस्तेमाल सेरेमनी के कामों में हुआ करता था. वर्तमान में ये पैलेस बरकत अली खान मुकर्रम जाह की प्रॉपर्टी है, जो निज़ाम के उत्तराधिकारी हैं.

कोटा हाउस, दिल्ली

kota house kuchhnaya

शाहजहां रोड पर स्थित कोटा हाउस दरअसल कोटा के महाराव का घर हुआ करता था. इस जगह का निर्माण महाराव भीमा सिंह द्वितीय ने 1938 में कराया था, हालांकि द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अंग्रेज़ों ने इस पर अपना कब्ज़ा जमा लिया था और वे इसे बेस अस्पताल की तरह इस्तेमाल करते थे. युद्ध खत्म होने के बाद इस बिल्डिंग को एक बार फिर कोटा स्टेट को सौंप दिया गया था.

आमेर किला, जयपुर

Amber_Fort kuchhnaya

आमेर फ़ोर्ट पर्यटकों के बीच बेहद लोकप्रिय है. ये जगह दरअसल राजपूत महाराजाओं और उनके परिवारों के रहने-ठहरने के लिए इस्तेमाल की जाती थी. ज़्यादातर लोग इस बात से वाकिफ़ नहीं होंगे लेकिन इस पैलेस का निर्माण इसलिए कराया गया था ताकि युद्ध जैसे खतरों की स्थिति में शाही परिवार को सुरक्षित बाहर निकाला जा सके.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *