थाईलैंड जैसा नजारा अब कोलकाता में

भारत में बनारस और मुंबई जैसे शहरों चीन, जापान के संघाई और टोक्यों की तरह बनाने के दावे भले सरकारों का ख्याली पुलाव हो मगर पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में आपको थाईलैंड जैसा नजारा देखने को मिल सकता है. जी हां हालही में दक्षिणी कोलकाता के पाटुली इलाके में एक लेक पर पश्चिम बंगाल का पहला फ्लोटिंग मार्केट आम लोगों के लिए खोल दिया गया. जिसका उद्घाटन मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने किया. थाईलैंड की फ्लोटिंग मार्केट की तर्ज़ पर बने 24,000 वर्ग मीटर में फैले इस फ्लोटिंग मार्केट की लागत लगभग 9 करोड़ बताई जा रही है. इस फ्लोटिंग मार्केट में नावों पर फल, सब्जियों, अनाज, इत्यादि के अलावा मांस, मछली, तेल और चाय की खरीद फरोख्त होगी.

floating-market kuchhnaya
static.asiawebdirect.com

फ्लोटिंग मार्केट में 100 से भी ज्यादा नांव हैं, जिन्हें विशेष रुप से तैयार किया गया है. इन्में खरीददार एक ओर से प्रवेश कर के दूसरी तरफ से आसानी से निकल सकेंगे. फ्लोटिंग मार्केट का ये कॉन्सेप्ट थाईलैंड और सिंगापुर जैसे शहरों में भी है, कोलकाता के लोगों के लिए ये अपनी तरह का पहला और अनोखा अनुभव है.

bangkok-floating-markets

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ये मार्केट सुबह 6 से रात के 9 बजे तक खुला रहेगा, मार्केट को लेकर आसपास के लोगों में काफी उत्साह है. इस अनोखे फ्लोटिंग मार्केट को बनाने की पीछे कोलकाता मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी (केएमडीए) की मंशा ईएम बाईपास के चौड़ीकरण के दौरान विस्थापित होने वाले फेरीवालों को दुबारा बसाना था.

अथॉरिटी की मंशा थी कि रोड चौड़ीकरण के कारण विस्थापितों के लिए एक ऐसा मार्केट तैयार किया जाए जो बेहद खास हो, इसी के बाद फ्लोटिंग मार्केट को बनाने का निर्णय लिया गया. ईएम बाईपास के चौड़ीकरण के लिए तीन वर्ष पहले ही बाजार को हटाने का निर्णय लिया गया था.

कोलकाता प्रशासन ने तो अपने फेरी वालों के लिए समय रहते ये सुविधा उपलब्ध करा दी मगर इसी तरह के हालत मुंबई महानगर में है. पता नहीं यहां पालिका को कब इस तरह की राहत फेरीवालों को मिलेगी. यहां आये दिन स्थानीय पार्टियों के कार्यकर्त्ता फेरीवालों को खदेड़ते रहते है.

श्रोत-hindi.news18.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *