क्या है सबके पसंदीदा फ्रेंच फ्राइज का इतिहास

हमारे अन्य लेख पढने के लिये फॉलो करे : फेसबुक

फ्रेंच फ्राइज सभी को बहुत पसंद होता है. फ्रेंच फ्फ्राइज की दीवानगी इस कदर है कि इसे बच्चे से लेकर बूढ़े सभी प्रेम से खाते है.

french fries image
http://paleogrubs.com

फ़ास्ट फ़ूड का नाम लेते ही सबके मन में सबसे पहले फ्रेंच फ्राइज का ही नाम आता है आखिर कोई क्या करे यह है ही इतनी टेस्टी. लेकिन क्या आप लोगों ने कभी यह सोचा है कि जिस फ्रेंच फ्राइज को हम इतने चाव से खाते है वो आखिर कहा से आया है.

क्योकि जाहिर है फ्रेंच फ्राइज की शुरुआत भारत में तो नहीं हुई थी.

तो आइये आज हम आपको बताते है कि आखिर सबके पसंदीदे फ्रेंच फ्राइज आखिर आया कहा से है.

आलू को पहली बार फ्रांस या बेल्जियम से नहीं बल्कि स्पेनिश के माध्यम से यूरोप में लाए गए थे. 1537 में, जिमेनेज डी कुएसाडा और उनकी स्पेनिश सेनाओं कोलंबिया पर चढ़ाई कर दी थी, वहां कोलंबिया के एक गांव में उन्होंने आलू पाया, जिसे स्पेनिश में शुरुआत में “ट्रफल्स” कहा जाता था.

jimenez-quesada-
ABC de Sevilla

लगभग 20 साल बाद, आलू को स्पेन वापस लाया गया और तभी इटली को भी आलू मिला.

शुरुआत में आलू कड़वे और छोटे होते थे लेकिन धीरे-धीरे खेती में सुधार लाया गया और आलू का कड़वापन कम होने लगा. फ्रेंच फ्राइज की शुरूआत बेल्जियम से मानी जाती है.

बेल्जियम के म्यूज वैली के गरीब किसान अक्सर छोटी मछलियों को फ्राइ कर खाते थे. लेकिन सर्दियों में पानी जम जाने के कारण उन्हें मछलियां खाने को नहीं मिलती थी.

इसलिए मछलियों के जगह उन्होंने आलू को पतला काट कर उन्हें फ्राई कर खाना शुरू कर दिया.

कैसे मिला फ्रेंच फ्राई –

फ्रांस में आलू की लोकप्रितिया को बढ़ावा देने का पूरा श्रेय फ्रेंच आर्मी मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर एंथनी ऑगस्टीन पर्मेंटे को जाता है. इससे पहले फ्रांस के निवासियों को यह लगता था कि आलू से बीएस बीमारियां फैलती है.

यहाँ तक की 1748 में, फ्रांसीसी संसद ने भी आलू की खेती पर प्रतिबंध लगा दिया था क्योंकि उन्हें लगता था कि आलू से लेपर्सी जैसी बीमारी होती है.

आख़िरकार 1772 में, पेरिस के चिकित्सा संकाय ने घोषणा की कि मनुष्य आलू खा सकता है. परमेनेट ने आलू बीच लाने के लिए एक भोज रखा, जिसमे सभी आलू से बनी चीजें थी.

इस भोजन में उन्होंने बेंजामिन फ्रैंकलिन, एंथनी, फ्रांस के राजा XVI लुई और रानी मैरी एंटीनेट को आमंत्रित किय. आखिरकर 1785 में जारकर आलू पुरे फ्रांस में लोकप्रिय बना.

1795 में फ्रांस में बड़ी मात्रा में आलू की खेती की जाने लगी. इस बीच फ्रांस के लोगो ने फ्राइज बना सिख लिया.

एक बार फ्रेंच फ्राइज की खोज होने के बाद यह पूरे फ्रांस में बेहद लोकप्रिय हो गया, खास कर पेरिस में. यहाँ फ्रेंच फ्राइज को सड़कों पर पुश-कार्ट विक्रेताओं द्वारा बेचा जाता था और “फ्राइट्स” कहा जाता था.

अब हमारे सामने फ्रेंच फ्राइज से जुड़ा दो प्रकार के इतिहास मौजूद है. बेल्जियनों का फ्रेंच फ्राइज है या फ्रांसीसियों का ये तो साफ नहीं है, लेकिन आज ये बेल्जियम समेत यूरोप के हर देश में खाए जाते है.

French Food Carts
The New York Times
  • बेल्जियम के लोगों ने फ्रेंच फ्राई का आविष्कार किया हो या नहीं लेकिन आज वो यूरोप के किसी भी देश से सबसे ज्यादा फ्रेंच फ्राइज खाते है.
  • आलू” शब्द हाईटियन शब्द “बटाटा” से आया है, जो पहले स्वीट पोटैटो को कहते थे. यह बाद में स्पेनिश में ‘पटटा’ और अंत में अंग्रेजी में ‘पोटैटो’ के रूप में आया.
  • स्टीक फ्राइज़, या चिप्स, वास्तव में सामान्य फ्रांसीसी फ्राइज़ की तुलना में कम फैट वाले पदार्थ होते हैं.
  • 1850 और 1930 के दशक के बीच, फ्रेंच फ्राइज को अमेरिका में ‘फ्रेंच फ्राइज पोटैटो’ के नाम से जाना जाता था. 1930 के बाद उन्होंने इस नाम से पोटैटो निकल दिया और फ्रेंच फ्राइज कहने लगे.

===

हमारे अन्य लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें: KuchhNaya.com | कॉपीराइट © KuchhNaya.com | सभी अधिकार सुरक्षित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *