गोल्डकोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 की कुछ खास बातें

हर चार साल बाद होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स इस बार ऑस्ट्रेलिया के शहर गोल्डकोस्ट में 4 से 15 अप्रैल तक 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स का आयोजन किया जा रहा है. जिसमे कुल 71 देशों के 4500 से ज्यादा एथलीट हिस्सा ले रहे हैं. 25 खेलों में 275 गोल्ड मेडल है होंगे। आइए जानें इन खेलों से जुड़े रोचक तथ्य और इसका इतिहास…

कहां और कब खेले जा रहे हैं कॉमनवेल्थ गेम्स

21वें कॉमनवेल्थ गेम्स का आयोजन तीन स्टेडियमों में किया जा रहा है. उद्घाटन और समापन समारोह का आयोजन गोल्डकोस्ट में किया जाएगा. वहीं ट्रैक साइक्लिंग और शूटिंग प्रतियोगिताएं ब्रिस्बेन में आयोजित होंगी. साथ ही बास्केटबॉल के प्रारंभिक दौर के मैच टाउंसविले और केयंर्स (Cairns) में आयोजित होंगे.

कितने होंगे खेल-खिलाड़ी 

गोल्डकोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में कुल 25 खेल, (18 खेल और सात पैरा-खेल) आयोजित होंगे. 10 प्रमुख खेलों में एथलेटिक्स, बैडमिंटन, बॉक्सिंग, हॉकी, लॉन बॉल्स, नेटबॉल, रग्बी सेवेंस, स्क्वैश, तैराकी और वेटलिफ्टिंग होंगे. जबकि वैकल्पिक खेलों में बास्केटबॉल, बीच बॉलीबॉल, साइक्लिंग, जिमनास्टिक, शूटिंग, टेबल टेनिस, ट्राइथलॉन, रेसलिंग होगा. जिसके लिए 71 देशों 4500 से ज्यादा एथलीटों की हिस्सा लेंगे.

कॉमनवेल्थ गेम्स का इतिहास

पहले कॉमनवेल्थ गेम्स का आयोजन ब्रिटिश साम्राज्य के खेलों के तौर पर किया गया. यानी कि इनमें वे देश हिस्सा लेते हैं, जो कभी ब्रिटिश साम्राज्य का हिस्सा रह चुके हैं. 1930 से 1950 तक इन खेलों का आयोजन ब्रिटिश एम्पायर (BE) गेम्स , 1954-1966 तक ब्रिटिश एम्पायर ऐंड कॉमनवेल्थ (BE&C) गेम्स के तौर पर और 1970 से 1974 तक इन खेलों का आयोजन ब्रिटिश कॉमनवेल्थ गेम्स के तौर पर किया जा रहा है.

पहले कॉमनवेल्थ गेम्स का आयोजन 1930 में एम्पायर गेम्स के नाम से न्यूजीलैंड के हैमिल्टन स्थित ओंटैरियो में किया गया. इन खेलों में 11 देशों के 400 से ज्यादा एथलीटों ने हिस्सा लिया था.

सन 1952 में इन खेलों का नाम ब्रिटिश एम्पायर ऐंड कॉमनवेल्थ गेम्स, और इस नाम से पहले खेल का आयोजन 1954 में कनाडा के वैंकावूर में किया गया. आखिरी ब्रिटिश एम्पायर ऐंड कॉमनवेल्थ गेम्स (BE&C) गेम्स का आयोजन 1966 में किंग्सटन में था. ब्रिटिश कॉमनवेल्थ गेम्स के तौर पर इन खेलों का आयोजन 1970 में एडिनबर्ग और 1974 में क्राइस्टचर्च में किया गया था.

पहली बार कॉमनवेल्थ गेम्स के नाम से इन खेलों का आयोजन 1978 में कनाडा के एडमोंटन में किया गया था. मलेशिया का शहर कुआलाम्पुर 1998 में इन खेलों का आयोजन करने वाला पहला एशियाई शहर था.

भारत छू सकता है 500 मेडल का आंकड़ा

भारत की राजधानी नई दिल्ली में 2010 में कॉमनवेल्थ गेम्स का आयोजन किया गया था. इन खेलों के दौरान एथलीटों के निवास की खराब व्यवस्था, ज्यादा बजट और निर्माण में देरी जैसे विवादों ने इन खेलों के दौरान और उसके बाद भी सुर्खियों में छाए रहे. इसके आलावा  भारत के लिए ये कॉमनवेल्थ गेम्स खासे महत्वपूर्ण हैं. 2010 में अपनी मेजबानी में 101 मेडल जीतने वाला भारत 2014 में 65 मेडल ही जीत पाया. भारत ने अब तक 16 कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लिया है. इनमें 155 गोल्ड समेत 438 मेडल जीते हैं. भारत को 500 का आंकड़ा छूने के लिए 62 पदकों की जरूरत है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *