भारत में एक ऐसी नदी जिसे लोग कहते हैं स्वर्ग में बहने वाली नदी

भारत की सबसे पवित्र जल वाली गंगा नदी के साफ-सफाई के लिए भारत सरकार करोड़ों रुपये खर्च करने की घोषणाएं करता रहा है. मगर आज तक गंगा साफ नहीं हुई. भारत में नदियों की स्थिति एक बड़ी चिंता का विषय है और पर्यावरण वैज्ञानिकों का मानना है की भारत में नदियां तेजी से लुप्त हो रही है. समाजसेवी संस्थाओं द्वारा नदियों को बचाने के लिए कार्यक्रम चलाएं जा रहे है.

मगर भारत में  ऐसी नदी है जिसके बारे जानकर आप भी कहेंगे अपने देश में एक नदी ऐसी भी है जो आपके उम्मीद से ज्यादा साफ सुथरी हैं. यह इतना साफ है कि नीचे का एक एक पत्थर क्रिस्टल की तरह नजर आता है इसमें धूल की एक कड़ भी नहीं दिखती इसे देश की सबसे साफ नदी कहा जाता है. आईये जानते है इस नदी के बारे में.

उमंगोट नदी 

भारत में नदियों की बदतर होती स्थिति के बीच आज हम आपको ऐसी एक नदी के बारे में बताने जा रहे है जो साफ-सफाई के मामले में मिसाल है. जी हां हम बात कर रहे है भारत की सबसे साफ़ और स्वच्छ नदी के बारे में जिसका पानी इतना साफ़ है की आप आसानी से उसका सतह देख सकते है. उम्नगोत, भारत-बांग्लादेश सीमा के पास पूर्वी जयंतिया हिल्स जिले के एक छोटे लेकिन व्यस्त कस्बे दावकी के बीच से बहती है. यह कस्बा राजधानी शिलांग से मात्र 95 किलोमीटर दूर है.

इस नदी में  कूड़े का एक टुकड़ा भी नजर नहीं आता इसके सफाई का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इस पर नाव के चलने पर ऐसा लगता है कि मानो की वह किसी कांच के पारदर्शी टुकड़े पर तैर रही हो।

नजारा बेहद खूबसूरत होता है जो भी लोग इस नदी को देखकर आते हैं उन्हें लगता है कि वह किसी और दुनियां में है क्योंकि ऐसी नदी धरती पर हो ऐसा उन्हें विश्वास नहीं होता नदी के चारों ओर का नजारा बहुत ही खूबसूरत है. यहां जाने वाले यात्री हर किसी को यही राहत देते हैं कि एक बार उमगोट नदी पर जरूर जाएं इस नदी की तुलाना लोग स्वर्ग में बहती नदी से करते हैं.

अंग्रेजों ने इस पर एक ब्रिज भी बनवाया है इस नदी में बड़ी संख्या में मछलियां भी मिलती हैं सफाई का सख्ती से पालन किया जाता है. जाड़े के मौसम में ये नदी और भी खूबसूरत और साफ नजर आती है. यह आने वाले सभी पर्यटकों से यह कहा जाता है कि वह किसी भी तरह की गंदगी ना फैलाएं यदि वह ऐसा करते हैं तो उन पर सख्त कार्रवाई की जाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *