शेर को मार कर किसिंग कर रहा ‘ये’ कपल हो रहा है ट्रोल

हमारे अन्य लेख पढने के लिये फॉलो करे : फेसबुकट्विटर

===

हमारे देश में बाघों की होने वाली शिकार एक आम बात हो गई है. इसके अलावा हाथी और अन्य पशुओं की भी शिकार की जाती है.

अमूमन पैसो के लिए इन पशुओं की शिकार की जाती है. क्योंकि इन प्राणियों के शरीर के कुछ अंगों को देशी और विदेशी बाजार में बहुत डिमांड है.

लेकिन पैसों के लालच में हम इंसान इस हद तक गिर रहे है की, हमें पता भी नहीं की इससे इकोसिस्टम को कितना नुकसान हो रहा है.

लेकिन हाल ही में एक ऐसी घटना घटी है, जो कुछ विचित्र और इन सबके विपरीत है.

इन दिनों सोशल मीडिया पर एक तस्वीर खूब वायरल हो रही है. असल में तस्वीर काफी चौकाने वाली है. तस्वीर में एक कपल शेर के बगल में बैठ कर एक दूसरे को किस कर रहे है. हैरानी की बात यह है कि शेर मारा हुआ है.

darren-carolyn-carter kuchhnaya

अंग्रेजी अख़बार के मुताबिक ये हंटिंग कपल डैरन और कैरोलिन कार्टर कनाडा के रहने वाले है. डैरन और कैरोलिन साउथ अफ्रीका में लीजलेला सफारी की टूर पर निकले थे.

इस कपल ने सफारी टूर के दौरान पहले इस शेर का शिकार किया फिर वहा बैठ कर काफी देर तक एकदूसरे को किस करते रहे. कपल ने यह तस्वीर वही से पोस्ट की थी.

फोटो वायरल होने पर इस पोस्ट पर खूब विवाद हुए जिसके बाद यह फोटो सोशल मीडिया पेज से हटा लिया गया है.

अफ्रीका में लीजलेला सफारी की टूर पर टूरिस्ट जानवरों का शिकार भी कर सकते है.

शिकार करने के बदले में टूरिस्ट को यहाँ बड़ी तगड़ी रकम देनी होती है. जिराफ के शिकार के लिए लगेलेला सफारी के दौरान पर्यटकों से करीब २ लाख रुपये चार्ज किया जाता है. वहीं हाथी और शेर के शिकार के लिए अलग रेट है. इसे ट्रॉफी हंटिंग कहा जाता है.

trophy hunting kuchhnaya

इस फोटो को टूर ऑपरेटर के पेज से शेयर किया गया था. सोशल मीडिया पर वायरल किसिंग फोटो का कैप्शन था- ‘धूप में कड़ी मेहनत… शाबाश… विशालकाय शेर.’

इतना ही नहीं इस फोटो को एक अन्य फेसबुक पेज से भी शेयर किया गया, जिसका कैप्शन था- ‘जंगल के शेर का शिकार करने जैसा बढ़िया और कुछ भी नहीं होता. शिकारियों की टीम ने शानदार प्रदर्शन किया.’

देखते ही देखते फोटो बस चंद मिनटों में सोशल मीडिया पर आग की तरह फ़ैल गया. लोगों ने सोशल मीडिया पर इस तस्वीर की खूब आलोचना की.

लोगों ने इस कपल के खिलाफ सक्त कार्रवाई करने की मांग की है. साथ ही लोगों ने ट्रॉफी हंटिंग को बैन करने की भी अपील की है.

trophy hunting kuchhnaya

डेरन कार्टर से जब इस मरे हुए शेर और इस तस्वीर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा-

‘मैं इस विषय पर कुछ भी कमेंट नहीं करना चाहता, ये बहुत पॉलीटिकल है’.

हैरान करने वाला है लेकिन सच है की, ट्रॉफी हंटिंग आधुनिक युग की सबसे बेकार तरीका है मनोरंजन का.

क्या है ट्रॉफी हंटिंग-

चुने गए कुछ विशेष जानवरों जैसे-हाथी, शेर, गेंडा, भालू इत्यादि का मनोरंजन के उद्देश्य से किया गया शिकार ‘ट्रॉफी हंटिंग’ (trophy hunting) कहलाता है.

trophy hunting kuchhnaya

इसे ट्रॉफी हंटिंग इसलिए कहा जाता है, क्योंकि निशाना लगाए जाने के बाद इन जानवरों के सिर, त्वचा या शरीर के किसी अन्य भाग को अलग कर ट्रॉफी के तौर पर रख लिया जाता है.

केवल इतना ही नहीं बल्कि ट्रॉफी के तौर पर रखे गए जानवरों के अंगों का व्यापार किया जाता है और यह कई देशों में कानूनन ज़ायज़ भी है.

ट्रॉफी हंटिंग में शिकार कब और कहाँ करना है, इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी किये जाते हैं. साथ ही किन हथियारों का उपयोग कर शिकार किया जाए यह भी निर्देशित किया जाता है.

trophy hunting kuchhnaya

ट्रॉफी शिकार एक लाभदायक उद्योग बना हुआ है. २००४ से २०१४ के बीच, अनुमानित १.७ मिलियन ट्राफियां- शिकार किए गए जानवरों के कुछ हिस्सों से कानूनी रूप से कारोबार किए गए थे.

खबरों की मानें तो इन तस्वीरों की वजह से लीजलेला सफ़ारिस को अब आधिकारिक तौर पर अगले साल बर्मिंघम में ग्रेट ब्रिटिश शूटिंग शो में अपनी फर्म का प्रदर्शन करने से प्रतिबंधित कर दिया गया है.

===

हमारे अन्य लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें: KuchhNaya.com | कॉपीराइट © KuchhNaya.com | सभी अधिकार सुरक्षित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *