यूरोप के कुछ इंसानों के शरीर में दौड़ता है एलियन का खून !

अबतक आपने ये सूना या पढ़ा ही होगा ‘O’ ब्लड ग्रुप के व्यक्ति सर्वदाता और सर्व ग्राही होते है. यानि जरुरत पड़ने पर ये किसी भी ब्लड ग्रुप समूह का ब्लड ले भी सकते है और दे भी सकते है. मगर अब एक ‘Rh-null’ के नाम का ब्लड ग्रुप समाने आया. जिसे रिसस नेगेटिव नाम से भी जाना जाता है. बताया जा रहा है इस तरह के ब्लड ग्रुप के इंसान बहुत कम होते है और ज्यादातर यूरोप में पाए जाते है. दावा तो ये भी किया जा रहा की इस तरह के ब्लड ग्रुप एलिन को हो सकते.

दुनिया में बहुत कम लोगों के पास है ये गोल्डन ब्लड ग्रुप

golden blood group kuchhnaya

 

आजकल कोई भी फॉर्म भरते वक्त हमें उस पर अपना ब्लड ग्रुप भी भरना होता है. इनमें आपको A,B,O जैसे ब्लड ग्रुप देखने को मिल जाते हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि दुनिया में एक ऐसा भी ब्लड ग्रुप है जो कि बहुत ही रेयर है. इतना कि ये केवल दुनिया में 40 लोगों के पास है. इस ब्लड ग्रुप को ‘Rh-null’ के नाम से जाना जाता है या इसे रिसस नेगेटिव भी कहते हैं. इतना रेयर होने के कारण इसे गोल्डेन ब्लड के नाम से भी जाना जाता है.

एंटीजन चलता है ब्लड ग्रुप का पता 

blood group kuchhnaya

किस इंसान का कौन सा ब्लड ग्रुप है इसका पता हमें उसके बॉडी में एंटीजन के काउंट से चलता है. यदि किसी इंसान के शरीर में ये एंटीजन कम मात्रा में होते है तो उसका ब्लड ग्रुप रेयर माना जाता है. ये एंटीजन बॉडी में एंटीबॉडी बनाने का काम करते हैं जो कि हमारे शरीर को बैक्टीरिया और वायरस से बचाता है. ये गोल्डेन ब्लड पिछले 52 सालों में केवल 43 लोगो में ही पाया गया. रिसस नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले व्यक्ति किसी भी इंसान को अपना खून दे सकते हैं.

इन लोगों की लाइफ वैसे तो नॉर्मल ही होती है लेकिन इन्हें अपना थोड़ा खास ध्यान रखना पड़ता है क्योंकि इनके डोनर आसानी से नहीं मिल पाते हैं. आप सोच सकते है कि पूरी दुनिया में 50 से भी कम लोगों के पास ये गोल्डेन ब्लड है तो ऐेसी स्थिति में एमरजेंसी के समय खून का मिल पाना काफी मुश्किल हो जाता है.

यह भी पढ़े: जब एक इंसान ने एलियन से बनाये संबंध और पैदा किया सैकड़ों बच्चे

रिसस नेगेटिव ब्लड ग्रुप एलियन के है !

Alien-Abduction

कुछ लोगों का तो ऐसा भी कहना है कि ये ब्लड ग्रुप एलियंस का है. इंसान के शरीर में एलियंस का खून दौड़ता है. एक रिसर्च के मुताबिक ये लोग इस दुनिया के है ही नहीं और अब इस बात पर खोज चल रही है कि आखिर ये लोग आएं कहां से? रिसस नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले लोग यूरोप में सबसे ज्यादा पाये जाते हैं. इसका केवल 1 प्रतिशत एशिया में पाया जाता है. ऐसे लोगों के बालो का रंग लाल और आंखों का रंग नीला, हरा या भूरा होता है. ये लोग गर्मी से ज्य़ादा प्रभावित होते हैं. इनका IQ भी सामान्य लोगों से ज्यादा होता है.

श्रोत-: c.mp.ucweb.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *