राहुल द्रविण के एक फैसले से बदल गयी अंडर-19 टीम की एक परंपरा

जिस खिलाड़ी को देश से आगे कुछ ना दिखता हो उसके लिए पैसे भी कोई मायने नहीं रखते. जी हां, हम बात कर रहे हैं अंडर-19 टीम के कोच और लिजेंड राहुल द्रविड़ की. दुनिया में ऐसे कम ही खिलाड़ी मिलेंगे जो खुद नुकसान करवाकर दूसरों का फायदा करें. उनमें से एक हैं टीम इंडिया के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़.

ज्ञात हो कि अंडर-19 विश्व कप जीतने के बाद बीसीसीआई ने राहुल द्रविड़ को 50 लाख, स्पोर्ट स्टॉफ के हर सदस्य को 20 लाख इनाम देने की घोषणा की थी. द्रविड़ ने इस खबर से नाखुशी जताते हुए सभी को एक तराज़ू में तोलने की बात रखी. ख़बरों के मुताबिक द्रविड़ के फैसले ने बोर्ड के अधिकारियों को भी हैरान कर दिया है. जिन्होंने पहले राहुल द्रविड़ के लिए बाकी खिलाड़ियों के मुकाबले अधिक रकम का ऐलान कर दिया था.

मीडिया खबरों के मुताबिक द्रविड़ को अंडर-19 टीम के वर्ल्ड कप जीतने पर उन्हें 50 लाख रुपये मिल रहे थे, जबकि टीम के अन्य सपोर्ट स्टाफ को 20-20 लाख. इस बारे में द्रविड़ ने खुलकर कहा था कि इस जीत में जितना योगदान मेरा है, उतना ही टीम में मौजूद हर सपोर्ट स्टाफ का भी है. सभी को बराबर पैसे मिलने चाहिए.

द्रविड़ ने इससे बेहद नाखुशी जताई थी कि उन्हें अधिक रकम दी गई, जबकि अन्य सदस्यों को उनके मुकाबले बेहद कम. द्रविड़ की इस मांग को तवज्जो देते हुए बीसीसीआई ने विश्व कप से जुड़े ही नहीं, बल्कि अंडर-19 टीम से एक साल पहले तक जुड़े स्टॉफ के हर सदस्य को इनामी रकम देने का फैसला किया है.

इन सभी सदस्यों को एक समान राशि देने का भी फैसला किया गया है. बोर्ड ने कोचिंग स्टॉफ के वर्तमान और विश्व कप से पहले जुड़े स्टॉफ के हर सदस्यों को 25-25 लाख रुपये इनाम में देने का फैसला किया है. जिसमें खुद कोच राहुल ध्रविड़ भी शामिल हैं.

इससे ये साफ हो गया है कि पिछले साल गुज़रे ट्रेनर राजेश सावंत के परिवार को भी उनके हिस्से की इनाम राशि दी जाएगी. आपको बता दें कि ट्रेनर राजेश की पिछले साल टीम के साथ ऑन ड्यूटी निधन हो गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *