इंटरमीडिएड में ९९.९ प्रतिशत अंक प्राप्तकर बनने चला जैन साधू !

अगर आप १२  वीं कक्षा में ९९.९  प्रतिशत का स्कोर बनाते हैं तो आपकी पहली प्रतिक्रिया क्या होगी ? आप खुशी से झूम उठेंगे क्योंकि आपके पास चुनने के लिए बहुत अधिक विकल्प हैं और दुनिया में आप जो चाहे बन सकते हो. आज मैं उपर आसमा निचे, आज मै आगे जमाना हैं पीछे कुछ ऐसे ही ख्याल आपके दिमाग में आयेंगे.

हालांकि, अहमदाबाद से 17 वर्षीय वर्शिल शाह ने खुद के लिए  भौतिक सुखों से परे कुछ अलग रास्ता अपने लिए चुना है. वर्शिल गुजरात माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षा बोर्ड में सबसे ऊपर है, जिसके परिणाम २७  मई को घोषित किए गए थे. उन्होंने दुनिया के कई विकल्प छोड़कर जैन साधु बनने का निर्णय लिया है. टाइम्स ऑफ़ इण्डिया में एक रिपोर्ट के मुताबिक, वर्शिल दीक्षा लेंगे – एक धार्मिक समारोह जो जैन भिक्षुओं और नन की शुरुआत को चिन्हित करता है.

varshil shah kuchhnaya

वर्शिल कहता है –

कल्याण रत्नाविजयसूरी महाराज मेरे गुरु है. जिन्होंने मुझे इस रास्ते पर प्रेरित किया. उनकी आयु 32 वर्ष है और उन्होंने भी अपनी इसी आयु में दीक्षा ली. जब मैंने उनके साथ समय बिताया और समकालीन मुद्दों पर बातचीत से कैसे जैन धर्म प्रासंगिक है और तपस्या के जीवन को पार करने का मेरा संकल्प मजबूत हो गया है.

उनकी मां अमीबेन शाह और आयकर अधिकारी पिता जिगर भाई, उनके बेटे द्वारा चुने गए मार्ग से वे खुश हैं. उनकी बहन ने , जो चार्टर्ड अकाउंटेंसी छोड़ने से पहले कैरियर का पीछा कर रही थी, २०११  में भी ९९.९  प्रतिशत प्राप्त किये थे.
शाह और उनके परिवार, जो जैन धर्म का पालन करते हैं, एक बहुत सरल जीवन शैली बनाए रखते हैं. वे जीवदया या सभी जीवों के लिए करुणा के जैन सिद्धांत का पालन करते हैं. बिजली का उपयोग उनके घर में बेहद सीमित है क्योंकि उनका मानना है कि बिजली उत्पादन की प्रक्रिया में कई जलीय जानवर मारे जाते हैं. खैर, आश्चर्य की बात यह है कि वे घर पर टीवी या रेफ्रिजरेटर भी नहीं हैं. बिजली का इस्तेमाल केवल तब ही किया जाता है जब यह आवश्यक हो.

शाह के लिए उनका मानना है कि एक शांतिपूर्ण मन अधिक काम कर सकता है. उन्होंने जैन भिक्षुओं के एक समूह से मुलाकात की, जिन्होंने स्कूल वर्ष २०१६  में शुरू होने से पहले उन्हें ध्यान केंद्रित करने और उच्च अंक हासिल करने में मदद की. अगले तीन सालों में, वह एक आध्यात्मिक पथ का पालन कर रहे हैं.

हम सभी मिलकर वर्शिल को इस पथ पर चलने के लिए शुभकामनायें देते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *