लोग काला धन स्विस बैंक में ही क्यों रखते है?

स्विस बैंक का प्रकरण हम सभी जानते ही हैं. आपने भी यह सुना होगा की काला धन वाले सारे लोगों के खाते स्विस बैंकों में ही होते हैं. मोदीजी भी भाषण में कहते हैं की स्विस बैंकों का काला धन  वापस लाएंगे. केवल भारत का ही नही,बल्कि दुनिया के अनगिनत धनवानों की संपत्ती इन्ही बैंकों में कैद है. तो फिर ऐसे समय मन में कुछ सवाल सहजता से खडे रहते हैं. जैसे की, स्विस बैंक इतना खास क्यों है,कि दुनिया का सारा काला धन इसी बैंक में जमा होता है? वैसे इस बैंक को भी पता होगा ही की यह काला पैसा मतलब अनधिकृत धन है,फिर भी यह बैंक पैसा स्वीकारती है ऐसा क्यों? ऐसा काला पैसा रखनेवाला के और भी बैंक हैं क्या?

swiss-bank-kuchhnaya01

स्रोत

हम में से कितनों को ऐसा लग रहा होगा की स्विस बैंक यह कोई एक ही बैंक तो नहीं  है, पर वैसा नही है.

स्विस बँक यह कोई एक बैंक नही. स्विट्ज़रलैंड में जितनी भी बैंक्स  हैं उन्हे स्विस बैंक कहा जाता है. उनमें से युनियन बैंक ऑफ स्विट्ज़रलैंड   युरोप की सबसे बडी और दुनिया की दुसरे क्रमांक की एक बडी बैंक  है.

स्विट्ज़रलैंड यह देश ‘टॅक्स हेवन’ नाम से जाना जाता है, क्योंकि यहा कितना भी पैसा जमा करें, आपको उसपर एकदम मामुली कर भरना पडता है या फिर कर भरना ही  नही पडता,ऐसा कहा तो भी चलेगा. साथ ही आपके बैंकिंग  सिक्रेट्स का भी एकदम कठोर पालन होता है. केवल  स्विट्ज़रलैंड ही नही बल्कि दुनिया में ऐसी अनेको  जगहें हैं जो ‘टॅक्स हेवन’ नाम से जानी जाती हैं. उनमें से लुक्झमबर्ग, हॉंगकॉंग, कॅमन आयलँड, सिंगापूर, यु.एस.ए., लेबनन, जर्मनी, जर्सी, जापान इन स्थानों का टेन में समावेश होता है. यहा हर जगह पर स्थित बैंकों  के अलग अलग कायदे हैं, परन्तु काला धन जमा करने के लिए ये सारे ही कायदे अनुकूल हैं. चलिए हम फिर से स्विस बैंक कि तरफ मुडे, देखे उनके कायदे-कानून काला धन जमा करने वालो के लिए कितने उपयुक्त हैं.

swiss-bank-kuchhnaya02

स्रोत

स्विस बैंक  में काला पैसा रखने के मुख्य कारण हैं इस देश की बैंक पॉलीसी!

१९३४ में इस देश ने एक बैंकिंग कायदा संमत किया, जिसके अनुसार अगर स्विस बैंक के पास उनके होनेवाले खाताधारको  के नाम और जानकारी खुल जाती है  तो वह एक कानूनन अपराध माना जाएगा. उसके बदले में उस बैंक पर कठोर कारवाई की जाएगी. (धन्य है ऐसे कायदे-कानून !)

इसी कायदे के कारण स्विस बैंक में खातेधारको  की तो दिवाली ही है. केवल यही नही ऐसे अनेको  बैंकिंग कानूनों की वजह से स्विस बैंक गोपनीयता के चक्रव्यूह में फसी हुई हैं. मतलब अगर स्विस बैंक  को किसी के नाम सार्वजनिक भी करने  हो, तब  भी वह कर नही सकती , क्योंकि उसकी उन्हे भारी कीमत चुकानी पडेगी. (परदेश के कायदे आपको पता ही हैं ! स्विट्ज़रलैंड देश ऐसे कठोर  कायदे कनून और सजाओं के लिए बहुत प्रसिध्द है.)

swiss-bank-kuchhnaya03

स्रोत

स्विट्ज़रलैंड सरकार का मत है की नागरिकों का ‘गोपनीयता रखने का अधिकार’ (right to privacy) यह मुलभूत अधिकारों में से एक है और हर देश के  नागरिकों को ये अधिकार देने  चाहिए. इसीलिए हम हमारे देश के नागरिकों और ग्राहकों की जानकारी उनके सहमति के बगैर उजागर  नही करते, क्योंकि वैसा करना उनके अधिकारों पर हथौड़ा चलाने  जैसा है. इसी कारण से जो कोई इस कायदे का उल्लंघन करेगा उसके ऊपर कठोर करवाई हो सकती  है.

परंतु गुनहगार इससे अपवाद है. अगर किसी गुनहगार के खिलाफ न्यायालय में केस शुरु हो तो स्विट्ज़रलैंड  का न्यायालय उस व्यक्ति  की सारी जानकारी और रहस्य उजागर  करने का आदेश दे सकती है.

स्विस बैंक  में काला पैसा जमा करने का और एक कारण यह भी है कि स्विस बैंक  आपसे यह नही पूछता की आपने इतना पैसा लाया किधर से? उन्हे इस बात से कोई मतलब भी नही है की आप किस मार्ग से पैसा कमाते हैं. आपको सिर्फ आपका पैसा उन्हे देना होता है और उस पैसे का संरक्षण करने के लिए एक निश्चित रकम बैंक  को देनी पड़ती  है.

और एक महत्त्वपूर्ण चीज यह है की स्विस बैंक अपने खाता-धारको को एक युनिक नंबर देता है, जिससे इसमें खातेदार को अपना नाम देने की जरूरत नही पडती. खाता धारक  उस नंबर के आधार से पूरा खाता  संभाल  सकते हैं. उसी तरह कोई भी व्यक्ति  इस नंबर का उपयोग करके खाता सांभाल सकता  है. वह खाता उसी का है,यह साबित करने की जरूरत नही होती. यह नंबर ही सारी चीजों के लिए काफी है क्योंकि उसी के कारण खाता असल में किस व्यक्ति का है यह ढुंढना करीब करीब असंभव है. इतना ही नही बल्कि उक्त  नंबर का खाता किस व्यक्ति  का है यह खुद स्विस बैंक को भी पता नही होता.

swiss-bank-kuchhnaya04

स्रोत

जैसे हमारे यहां बँक में खाता खोलने के लिए कुछ शर्ते और नियम रखे जाते हैं वैसे हि स्विस बैंक की भी कुछ शर्ते और कायदे कानून  होते हैं.

  • खातेधारको  की उम्र  कम से कम १८ होनी चाहिए और उसके  खाते में कम से कम ३.२१ से ६.२४ करोड रुपयों का बॅलेन्स रखना जरूरी होता है. इतना बॅलेन्स अगर खाते में रखा सिर्फ तो हि ब्याज मिलता है. वह भी काफी कम प्रतिशत में!
  • स्विस बँक में खाता खुद वहां जाकर खोलना पडता है या स्विस बँक के प्रतिनिधी मार्फत खोलना पडता है. इंटरनेट के माध्यम से स्विस बँक में खाता नही खोल सकते. क्योंकि वह ट्रैक  किया जा सकता है. पहले बताया हुए बँकिंग कायदे केआधार पर यह शर्त रखी गई है.
  • उसी तरह स्विस बैंक की एक और विशेषता  है कि खातेधारको को पैसे भरते समय अथवा निकालते समय खुद बैंक जाने की जरूरत नही पडती. उसकी तरफ से दुसरा कोई व्यक्ति पैसे जाकर भर सकता है या निकालकर ला सकता है. इस वजह से जिस व्यक्ति  का खाता है उस व्यक्ती को कोई भी ट्रैक  नही कर सकता.

swiss-bank-kuchhnaya05

स्रोत

तो अब आप के ध्यान में आया होगा की स्विस बैंक  को काले धन  का साम्राज्य  क्यों कहा जाता है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *