कॉल रिसीव करते ही हम क्यों कहते है हेलो….?

हमारे अन्य लेख पढने के लिये फॉलो करे : फेसबुक

===

जैसा की आप सबको पता ही होगा कि, जब आपका मोबाइल या लैंडलाइन की रिंग बजती है तो आपको सबसे पहले जो शब्द बोलना है वो है हेलो (‘Hello’). उसके बाद ही बाकी बात शुरू होती है.

लेकिन क्या कभी आपने ये सोचा है कि फोन उठाते ही सबसे पहले ‘हेलो’ ही क्यों बोलते हैं..? Hello के अलावा और कुछ क्यों नहीं बोलते हैं?

हालांकि इस सवाल के जवाब में कई मनगढ़ंत कहानियां खूब प्रचलित है. जो प्रमाणिक रुप से सत्य नहीं बल्कि अफवाह है.

telephone kuchhnaya

टेलीफोन का अविष्कार अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने किया था. जिसे 10 मार्च 1876 को उनके टेलीफोन आविष्कार को पेटेंट मिला था.

टेलीफोन के अविष्कार के बाद बेल ने सबसे पहले अपने सहयोगी वाट्सन के लिये संदेश प्रेषित किया- “श्रीमान वाट्सन, यहाँ आओ, मुझे तुम्हारी आवश्यकता है.” इसके अलावा ग्राहम बेल फोन पर Hello नहीं Ahoy बोलते थे.

graham bell kuchhnaya

टेलीफोन का आविष्कार होने के बाद जब लोगों ने इसका इस्तेमाल करना शुरू किया तो शुरूआत में लोग फोन पर पूछा करते थे ‘Are You There?’

वो ऐसा केवल ये जानने के लिए बोलते थे कि उनकी आवाज दूसरी ओर पहुंच रही है की नहीं.

telephone kuchhnaya

लेकिन एक बार, थॉमस एडिसन ने ‘Ahoy’ को गलत सुन लिया और 1877 में उन्होंने ‘Hello’ बोलने का प्रस्ताव रखा.

इसके लिए उन्होंने पिट्सबर्ग की ‘सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट एंड प्रिंटिंग टेलीग्राफ कम्पनी’ के अध्यक्ष टीबीए स्मिथ को पत्र लिखा और कहा कि टेलीफ़ोन पर पहले शब्द के रूप में ‘Hello’ बोला जाना चाहिए.

telephone kuchhnaya
India.com

जब उन्होंने पहली बार फोन किया तो सबसे पहले कहा ‘Hello’. ये उन्ही की देन है कि. आज हम फ़ोन उठाते ही ‘Hello’ बोलते हैं.

हेलो का वास्तविक अर्थ-:

ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी के अनुसार, Hello शब्द पुराने जर्मन शब्द हाला, होला से बना है.

Oxford-English-Dictionary kuchhnaya

ये शब्द पुराने फ्रांसीसी या जर्मन शब्द ‘होला’ से निकला है. ‘होला’ का मतलब होता है ‘कैसे हो’ या ‘हाल कैसा है जनाब का’?

प्राचीन समय में इस शब्द का इस्तेमाल समुद्र में यात्रा के दौरान नाविक किया करते थे. अंग्रेज कवि चॉसर के जमाने में यानी 1300 के बाद ये शब्द हालो (Hallow) बन चुका था.

इसके दो सौ साल बाद यानी शेक्सपियर के जमाने में ये हालू (Halloo) बन गया. फिर ये शिकारियों और मल्लाहों के इस्तेमाल से कुछ और बदला और हालवा, हालूवा, होलो (Hallloa, Hallooa, Hollo) बना.

ग्राहम बेल की हेलो नाम की कोई प्रेमिका नहीं थी-:

अभी तक कई जगह आपने ये पढ़ा या सुना होगा कि फ़ोन उठाते ही Hello बोलने के पीछे टेलीफोन का आविष्कार करने वाले ग्राहम बेल की एक लव स्टोरी है.

 उन्होंने टेलीफ़ोन का आविष्कार करने के बाद सबसे पहले अपनी गर्लफ्रेंड ‘मारग्रेट हैलो’ को फ़ोन पर प्यार से ‘Hello’ बोला था. लेकिन ये बात सच नहीं है.

graham bell love story kuchhnaya

ग्राहम बेल की गर्लफ्रेंड ‘मारग्रेट हैलो’ थीं इसका कोई रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं है. जबकि ग्राहम बेल की गर्लफ्रेंड का नाम माबेल हूबार्ड (Mabel Hubbard) था और उन्होंने 1877 में Mabel से शादी की थी.

ऊपर वाली  फ़ोटो में ग्राहम बेल के साथ दिख रही महिला ‘मारग्रेट हैलो’ नहीं, बल्कि उनकी पत्नी माबेल गार्डिनर हबर्ड (Mabel Gardiner Hubbard) हैं.

hello kuchhnya.01

आपको बता दें कि, उस ज़माने में टेलीफ़ोन एक्सचेंज में काम करने वाली महिला ऑपरेटरों को ‘हैलो गर्ल्स’ कहा जाता था.

===

हमारे अन्य लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें: KuchhNaya.com | कॉपीराइट © KuchhNaya.com | सभी अधिकार सुरक्षित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *